प्रमुखा विकल्पसूचिः उद्घाट्यताम्

जयशंकर प्रसादः (Jayshankar Prasad) (1889-1937) हिन्दी भाषाया: महान् लेखक: ।

Jaishankar Prasad
100px
जननम् (१८८९-वाचनिकदोषः : < इत्येतत् अनपेक्षितं चिह्नम् ।-३०)३० १८८९
Varanasi, India
मरणम् १४ १९३७(१९३७-वाचनिकदोषः : अनपेक्षितम् उद्गारचिह्नम १-१४) (आयुः ४७)
Varanasi, India
वृत्तिः Novelist, playwright, poet

उदाहरणकवितासम्पाद्यताम्

बीती विभावरी जाग री!

बीती विभावरी जाग री!

अम्बर पनघट में डुबो रही

तारा घट ऊषा नागरी।

खग कुल-कुल-कुल सा बोल रहा,

किस लय का अंचल डोल रहा,

लो यह लतिका भी भर लाई

मधु मुकुल नवल रस गागरी।

अधरों में राग अमंद पिये,

अलकों में मलयज बंद किये

तू अब तक सोई है आली

आँखों में भरे विहाग री।

- जयशंकर प्रसाद

पश्‍यसम्पाद्यताम्

बाह्यसम्पर्कतन्तुःसम्पाद्यताम्

"https://sa.wikipedia.org/w/index.php?title=जयशङ्कर_प्रसाद&oldid=423499" इत्यस्माद् पुनः प्राप्तिः